अन्नपूर्णा योजना 2022 : किसानों को फ़सलों के बीज पर 75 प्रतिशत अनुदान

By | April 24, 2022

जानिए क्या है अन्नपूर्णा योजना? जिससे किसानों को फसलों के बीज पर मिलता है 75% अनुदान

भले ही देश आज़ाद हो गया है लेकिन आज भी देश की आधे से ज्यादा जनता गरीब है। ऐसे में देश के कई किसान भी गरीबी के चलते अच्छे किस्म की खेती नहीं कर पाते हैं। जिसके चलते केंद्र सरकार और राज्य सरकारों द्वारा किसानों के लिए कई योजनाएं चलाई जाती हैं। जिससे किसानों को फायदा मिले। ऐसे में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा भी किसानों के लिए अन्नपूर्णा योजना शुरू की गई है।

अन्नपूर्णा योजना राज्य सरकार की योजना है। जिसके द्वारा प्रदेश के SC/ST वर्ग के लोगों के लिए 75 प्रतिशत की अनुदान के साथ उन्नत किस्म के बीज उपलब्ध करवाए जाते हैं। आपको बता दें कि राज्य में कई ऐसे किसान हैं जो विपुल उत्पादन देने वाली फसलों के उन्नत किस्म के बीजों को खरीदने में सक्षम नहीं हैं। ऐसे में गरीब किसानों को ध्यान में रखते हुए अन्नपूर्णा योजना को लाया गया है ताकि गरीब किसान भी उन्नत बीच से उन्नत खेती कर सके।

annapurna yojana 75 percent subsidy on crop seeds to farmers

जानिए क्या है अन्नपूर्णा योजना?

यह योजना सन 2000-01 में शुरू की गई थी। यह योजना गरीब किसानों को ध्यान में रखते हुए बनाई गई है। जिसके तहत गरीब किसानों को 75 प्रतिशत तक की अनुदान पर उन्नत किस्म की बीज उपलब्ध करवाए जाएंगे।

इस योजना का लाभ अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के लघु और सीमांत किसानों को दिया जाता है। जिससे कि गरीब किसान जो कि उन्नत किस्म के बीजों को खरीदने में सक्षम नहीं है, वो भी इस योजना से बीज ख़रीद सके।

क्या है योजना का मुख्य उद्देश्य?

जैसा कि आप जानते हैं कि प्रदेश के किसानों में से आधे से ज्यादा किसान गरीब तबके से हैं। इस योजना का मुख्य उद्देश्य अनुसूचित जाति एवं जनजाति के गरीब किसानों को उन्नत किस्म वाले बीज उपलब्ध करना है। ताकि वे भी अपनी उत्पादकता बढ़ा सकें और खेती करने में उन्हें आर्थिक सहायता मिल सके।

अन्नपूर्णा योजना के तहत किसानों के लिए ये हैं प्रावधान

  • बीज अदला-बदली कार्यक्रम में किसानों द्वारा दिए गए बिना लाभ कि फसलों के बीज के बदले में एक हैक्टेयर तक खाद्दान्न फसलों के उन्नत बीज दिए जाते हैं। जिसके लिए 75 प्रतिशत अनुदान, 15 सौ की पात्रता होती है। अगर किसान के पास बीज नहीं है तो उसे प्रदान किए बीज का 25 प्रतिशत राशि किसान को देना होता है। 
  • बीज स्वावलंबन कार्यक्रम के अंतर्गत अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के किसानों को उनकी जमीन के 1/10 भाग के रकबे के लिए आधार/प्रमाणित उन्नत बीज उपलब्ध करवाए जाएंगे। ताकि बाद में किसान उन्नत किस्म का बीज खुद ही पैदा कर सके। 
  • बीज उत्पादन कार्यक्रम में सरकारी कृषि क्षेत्रों में 10 किलोमीटर के दायरे में सरकार द्वारा SC/ST के लघु और सीमांत किसानों को उन्नत किस्म के बीज प्रमाणिक-I श्रेणी के बीज उपलब्ध करवाए जाते हैं। किसानों द्वारा यह अनुदान 1 हेक्टेयर जमीन तक की सीमा तक लिया जा सकता है।

इस योजना का लाभ लेने के लिए कैसे करें रजिस्ट्रेशन

अगर आप इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग मध्यप्रदेश की वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपको वहां दिए गए विकल्पों में से कृषि योजनाएं पर क्लिक करना होगा। अब आपको पोषित राज्य योजनाएं वाली लिस्ट में से अन्नपूर्णा योजना एवं सूरजधारा योजना पर क्लिक करना होगा। जिसके बाद आपको इस योजना से जुड़ी समस्य जानकारी मिल जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.