Farm Machinery Bank: लघु एवं सीमान्त किसानों और जोतदारों को अब आसानी से कभी भी मिलेंगे कृषि यंत्र

By | April 5, 2022

Farm Machinery Bank: फसलों की अच्छी उत्पादकता एवं आधुनिक तरीके से कृषि करने के लिए किसानों को आधुनिक कृषि यंत्रों (Agriculture Equipment) की आवश्यकता पड़ती है। कृषि में आधुनिकतम तकनीकों का इस्तेमाल करने के लिए किसानों को कृषि यंत्रों को खरीदना पड़ता है, लेकिन कई किसान ऐसे होते हैं, जिनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होती है तो वह इन कृषि यंत्रों को खरीदने में असमर्थ रहते हैं।

इसी बात को ध्यान में रखते हुए केंद्र एवं राज्य सरकारों द्वारा किसानों को कृषि यन्त्र उपलब्ध करवाने के लिए कई योजनायें संचालित की जा रही है। इसी प्रकार झारखण्ड सरकार (Jharkhand Government) द्वारा अपने राज्य के किसानों के आर्थिक उत्थान के लिए तथा कृषि की आधुनिकतम तकनीकों से जोड़ने के लिए लिए Farm Machinery Bank की स्थापना की है ताकि किसान खेती बाड़ी की आधुनिक तकनीक से जुड़ पायें।

क्या है फ़ार्म मशीनरी बैंक

छोटे एवं सीमान्त किसान आर्थिक स्थिति के चलते आधुनिक कृषि यंत्रों को खरीदने में असमर्थ रहते हैं, लिहाजा वह खेती-बड़ी में आधुनिक कृषि यंत्रों का उपयोग नहीं करते है। इसी लिए राज्य सरकार ने फार्म मशीनरी बैंक (Farm Machinery Bank) खोलने का फेंसला लिया है। इसके तहत राज्य सरकार राज्य में तक़रीबन 1000 कृषि मशीनरी बैंक खोलेगी। जिसके माध्यम से छोटे एवं सीमान्त किसानों को किराये पर कृषि यन्त्र (Farm Equipment) उपलब्ध कराएँ जायेंगे, ताकि राज्य के किसान खेती-बाड़ी की आधुनिक तकनीक से जुड़ पायें, एवं आसानी से खेती कर सकें।

Farm Machinery Bank

फार्म मशीनरी बैंक संक्षिप्त विवरण

योजना का नाम फार्म मशीनरी बैंक (Farm Machinery Bank)
राज्य झारखण्ड (Jharkhand)
सम्बंधित विभाग कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग
संचालित करने का जिम्मा कृषि सहकारी समितियों को
उद्देश्य किसानों को खेती-बाड़ी की आधुनिक तकनीकों से जोड़ना
लाभार्थी राज्य एवं लघु एवं सीमान्त कृषक
योजना पर खर्च होंगे 250 करोड़ रुपए
कितनी फार्म मशीनरी बैंक खोली जायेगी 1000

राज्य में खुलेंगे कृषि मशीनरी बैंक

झारखण्ड सरकार राज्य के जरूरतमंद किसानों को खेती-किसानी के लिए कृषि मशीनरी बैंक (Farm Machinery Bank) के माध्यम से किफायती दरों पर कृषि उपकरण किराये पर मुहैया करवाएं। राज्य में तक़रीबन 1000 कृषि उपकरण बैंक खोले जायेंगे जिसमे तक़रीबन 250 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। इस योजना का का प्रारूप कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग ने तैयार कर लिया है।

कृषि मशीनरी बैंक (Farm Machinery Bank) को संचालित करने का कार्यभार प्रखंडों एवं अंचलों में कार्यरत कृषि सहकारी समितियों को दिया जाएगा। इसके लिए उन समितियों को चुना जाएगा जो सरकारी मापदंडों के अनुरूप है एवं जिन्होंने पिछले वर्षों में अच्छा प्रदर्शन किया है। बता दें कि राज्य में करीब साढ़े चार हजार कृषि सहकारी समितियां हैं, जिनमें से चुनिंदा 100 इस योजना से लाभान्वित होंगी। हर कृषि उपकरण बैंक पर औसतन 25 लाख रुपए की लागत आएगी।

CHC Farm Machinery – किराए पर मिलेंगे कृषि उपकरण | Download CHC APP

छोटे एवं सीमान्त कृषक ले सकेंगे किराये पर कृषि यन्त्र

इस योजना को छोटे, सीमान्त कृषक एवं जोतदारों को ध्यान में रखते हुए ही शुरू की गयी है ताकि किसान किराये पर कृषि मशीनरी लेकर खेतों में खेती कर सके एवं आधुनिक कृषि से जुड़ सके एवं खेती-बड़ी में नवीनतम तकनीकों का उपयोग कर सके। कृषि यंत्रों की मदद से खेती-बाड़ी का कार्य सुगम होगा। कृषि मशीनरी बैंकों में ट्रेक्टर, रोटावेटर, मल्टी थ्रेशर, सिंचाई पंप, फसलों की कटाई की मशीन समेत सभी आधुनिक कृषि यन्त्र रखे जायेगा।

राज्य सरकार लेगी ऋण

इस योजना को जमीनी स्तर पर लागू करने के लिए राष्ट्रीय सहकारिता विकास निगम से ऋण लिया जायेगा, इसकी 75 प्रतिशत राशि कम ब्याज दर पर प्राप्त होगी। वाही इस योजना पर 25 प्रतिशत अनुदान प्राप्त होगा। अगले 5 वर्षों में ऋण की राशि चुकाई जाएगी। बताया जा रहा है कि विभाग की तरफ से जल्द ही प्रस्ताव राष्ट्रीय सहकारिता विभाग एनसीडीसी को भेजा जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.