हरियाणा मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना 2021 : ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, पात्रता, दस्तावेज

By | September 25, 2021

हरियाणा सरकार द्वारा बागवानी किसानों को प्राकृतिक आपदाओं के कारण होने वाले नुकसान से बचाने एवं बागवानी फसलों की खेती करने हेतु प्रोत्साहित करने के लिए “हरियाणा मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना” की शुरुआत की है। इस योजना की घोषणा प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री मनोहरलाल खट्टर द्वारा केबिनेट मंत्रिमंडल की बैठक में 22 सितम्बर 2021 बुधवार को की थी। यह एक वैकल्पिक बीमा योजना है, जो राज्य के सभी जिलो में लागू होगी। इस लेख में हम आपको Haryana Mukhyamantri Bagwani Bima Yojana के बारे में जानकारी साझा करने जा रहे है। इस लेख में हम आपको मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना क्या है? आवेदन प्रक्रिया, लाभ, उद्देश्य, पात्रता, दस्तावेज आदि की जानकारी साझा करेंगे। इसलिए योजना से जुडी पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए लेख को अंत तक जरुर पढ़ें।

Haryana Mukhyamantri Bagwani Bima Yojana 2021

हरियाणा मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना के अंतर्गत यदि बागवानी किसानों की फसलों का नुकसान बीमारी लगने, असमय वर्षा, तूफान, सूखा और तापमान बढ़ने जैसी प्राकृतिक आपदाओं से होता है तो सरकार किसानों को बीमा कवर प्रदान करती है। बागवानी बीमा योजना के अंतर्गत 21 सब्जियों, फल और मसालों को कवर किया गया है। Mukhyamantri Bagwani Bima Yojana से जुड़ने के लिए किसानों को सब्जियों और मसालों की फसलों के लिए 750/- रूपए एवं फल की फसल के लिए 1000/- प्रीमियम का भुगतान करना होगा। इसके एवज में उन्हें क्रमश: 30,000 रुपये और 40,000 रुपये का बीमा आश्वासन दिया जायेगा। यदि किसी किसान की फसल प्राकृतिक आपदाओं के कारण ख़राब हो जाती है तो, किसान बीमा कवर को प्राप्त करने के लिए दावा कर सकते हैं। बीमा दावों का निपटान करने के लिए सरकार द्वारा सर्वे कराया जायेगा। जिसके अंतर्गत फसल नुकसान की चार श्रेणियां होंगी, जो कि 25%, 50%, 75% और 100% है।

mukhymantri bagwani beema yojana

हरियाणा मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना का बजट

इस योजना के सफल संचालन एवं क्रियान्वयन के लिए हरियाणा सरकार द्वारा 10 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया गया है। इस योजना में शामिल होना किसानों के लिए वैकल्पिक होगा। किसानों द्वारा इस स्कीम में शामिल होने के लिए उन्हें मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण कराना होगा। राज्य एवं जिला स्तरीय समितियों द्वारा राज्य एवं जिला स्तर पर निगरानी, संरक्षण और विवादों का समाधान भी किया जाएगा।

Key Highlights Of Haryana Mukhyamantri Bagwani Bima Yojana 2021

योजना का नाम मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना
राज्य हरियाणा
सम्बंधित विभाग उद्यान विभाग, हरियाणा
उद्देश्य किसानों को बागवानी फसल की खेती करने के लिए प्रोत्साहित करना
लाभार्थी हरियाणा के किसान
बीमा कवर ₹30000 एवं ₹40000
प्रीमियम राशि सब्जी एवं मसालों के लिए ₹750 तथा फलों के लिए ₹1000
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन/ऑफलाइन
ऑफिसियल वेबसाइट https://hortharyana.gov.in/

हरियाणा मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना का उद्देश्य

बागवानी किसानों को फसलों में बीमारी लगने, असमय वर्षा, तूफ़ान, सूखा और तापमान बढ़ने जैसी आपदाओं से काफी नुकसान उठाना पड़ता है। प्राकृतिक आपदाओं के कारण फसलों के नुकसान की भरपाई करने के लिए ही हरियाणा मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना को लागू किया गया है। इससे किसान बागवानी फसलों की खेती करने के लिए प्रोत्साहित होंगे, जिससे किसानों की आय में वृद्धि होगी।

मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना में शामिल फसलें

इस स्कीम के अंतर्गत कुल 20 फसलों को शामिल किया गया है। इन फसलों में 14 सब्जियों की फसलें, 2 मसाला फसलें, एवं 4 फलों की फसलें शामिल हैं, इस योजना में शामिल फसलों की सूची निम्नप्रकार है:-

  • टमाटर
  • प्याज
  • आलू
  • फूलगोभी
  • मटर
  • गाजर
  • भिंडी
  • लौकी
  • करेला
  • बैंगन
  • हरी मिर्च
  • शिमला मिर्च
  • पत्ता गोभी
  • मूली
  • हल्दी
  • लहसुन
  • आम
  • किन्नू
  • बेर
  • अमरूद

Haryana Mukhyamantri Bagwani Bima Yojana के लाभ तथा विशेषताएं

  • इस स्कीम की घोषणा मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा हरियाणा मंत्रिमंडल की बैठक में की गयी है।
  • इस योजना के अंतर्गत बागवानी फसलों को उगाने वाले किसानों को प्राकृतिक आपदाओं के कारण हुए फसलों के नुकसान की भरपाई की जायेगी।
  • इस योजना के अंतर्गत 21 सब्जियों, फल और मसाले की फसलों को कवर किया जाएगा।
  • मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना के अंतर्गत किसानों को सब्जियों और मसालों की फसल के लिए 750/- रूपए एवं फल की फसल के लिए 1000/- रूपए के मामूली प्रीमियम का भुगतान करना होगा।
  • इस योजना के अंतर्गत किसानों को 30000/- रूपए और 40000/- रूपए का बीमा आश्वासन दिया जाएगा।
  • योजना के तहत बीमा दावों का निपटारा करने के लिए सर्वे किया जाएगा।
  • सर्वे में फसल नुकसान को चार श्रेणियों 25 प्रतिशत, 50 प्रतिशत, 75 और 100 प्रतिशत- में आंका जायेगा।
  • यह योजना वैकल्पिक होगी, एवं पुरे राज्य में लागू होगी।
  • इस योजना का लाभ उठाने के लिए किसानों को “मेरी फसल मेरा ब्यौरा” पोर्टल पर अपनी फसल और क्षेत्र का ब्यौरा देते हुए रजिस्ट्रेशन करवाना होगा।
  • योजना सफल संचालन के लिए राज्य सरकार द्वारा 10 करोड़ रूपए के बजट का निर्धारण किया गया है।

मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना के लिए पात्रता

  • आवेदक हरियाणा राज्य का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक किसान होना चाहिए।
  • किसान द्वारा बागवानी की फसल की खेती होनी चाहिए।

आवश्यक दस्तावेज (Required Documents)

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय का प्रमाण
  • फसल का ब्योरा
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी

हरियाणा मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया

प्रदेश के इच्छुक एवं पात्र किसान जो हरियाणा मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना के अंतर्गत बीमा करवाना चाहते है, उन्हें सबसे पहले मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर अपनी फसल एवं क्षेत्र का ब्यौरा देते हुए पंजीकरण कराना होगा। मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया कुछ इस प्रकार है:-

  • सर्वप्रथम आपको मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल की ऑफिसियल वेबसाइट fasal.haryana.gov.in पर जाना होगा।
  • ऑफिसियल वेबसाइट खुलने के बाद आपको “किसान अनुभाग” के सेक्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद अगला पेज खुल जाएगा।
meri fasal mera byora registration online
  • इस पेज में आपको “किसान पंजीकरण (हरियाणा)” के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • विकल्प पर क्लिक करने के बाद अगला पेज खुल जायेया।
kisan login form haryana
  • इस पेज में आपको मोबाइल नंबर एवं केप्चा कोड दर्ज करके “login” बटन पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करने के बाद पंजीकरण फॉर्म खुल जाएगा।
  • इस फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी जैसे फसल का विवरण, खेत का विवरण, क्षेत्र का विवरण आदि जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद “Submit” बटन पर क्लिक करें।
  • इस प्रकार आपका मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर सफलतापूर्वक पंजीकरण हो जायेगा।
  • इसके बाद आप हरियाणा मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना में आवेदन कर सकते हैं।

FAQs (Frequently Asked Questions)

Q: मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना क्या है?
Ans: यह योजना मुख्यमंत्री फसल बीमा योजना की तर्ज पर शुरू की गयी है। इस स्कीम के अंतर्गत किसानों की फसल का नुकसान प्राकृतिक आपदाओं के कारण होने से उन्हें बीमा कवर प्रदान किया जाता है।

Q: इस स्कीम के अंतर्गत कौन-कौन से प्राकृतिक आपदाओं के कारन होने वाले नुकसान को कवर किया जाएगा।
Ans: इस स्कीम के अंतर्गत खराब मौसम, ओलावृष्टि, तापमान, पाला, बाढ़, बादल फटना, नहर व ड्रेन का टूटना, जलभराव, आंधी, तूफान व आग से फसल को नुकसान को योजना में कवर किया गया है। 

Q: हरियाणा मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना में कौन-कौन से फसलों को कवर किया जायेगा।
Ans: इस योजना के अंतर्गत 14 सब्जियों, 2 मसालों, और चार फलों की सब्जियों को मिलकर कुल 20 फसलों को शामिल किया जाएगा जिनमे टमाटमर, प्याज, आलू, फूलगोभी, मटर, गाजर, भिंडी, घीया, करेला, बैंगन, हरी मिर्च, पत्तागोभी और मूली हैं। मसाला फसलों में हल्दी और लहसून जबकि फलों में आम, किन्नू, बेर और अमरूद को शामिल किया जाएगा।

Q: योजना के अंतर्गत कितने प्रीमियम का भुगतान करना होगा।
Ans: इस स्कीम से जुड़ने के लिए किसानों को सब्जियों और मसलों की फसल के लिए 750/- रूपए एवं फलों की फसल के लिए 1000/- रूपए प्रीमियम का भुगतान करना होगा।

Q: बागवानी बीमा योजना हरियाणा के अंतर्गत फसलों के नुकसान पर कितना बीमा कवर मिलेगा?
Ans: इस स्कीम के अंतर्गत सब्जियों और मसालों की फसल के नुकसान पर 30000/- रूपए एवं फलों की फसलों के नुकसान पर 40000/- रूपए तक का बीमा कवर प्रदान किया जाएगा।

Q: हरियाणा बागवानी बीमा योजना में आवेदन कैसे करें?
Ans: इच्छुक किसान जो इस योजना में आवेदन करना चाहते है, उन्हें सबसे पहले मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर फसल एवं क्षेत्र के विवरण के साथ पंजीकरण कराना होगा। उसके बाद इस योजना में शामिल होया जा सकता है।

Q: फसल के नुकसान होने पर किये गए दावों का निपटान कैसे किया जाएगा?
Ans: बीमा दावों का निपटारा करने के लिए सर्वे किया जायेगा। जिसके तहत फसल नुकसान को चार श्रेणियों – 25 प्रतिशत, 50 प्रतिशत, 75 और 100 प्रतिशत- में आंका जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *