Shramik Mitra Yojana: दिल्ली सरकार ने शुरू की श्रमिक मित्र योजना, मजदूरों का वेतन बढ़ा

By | November 12, 2021

Shramik Mitra Yojana: दिल्ली सरकार द्वारा श्रमिकों के सामाजिक एवं आर्थिक कल्याण के लिए एवं श्रमिकों के जीवन स्तर में सुधार करने के लिए कई प्रकार की सरकारी योजनाएं (Government Schemes) संचालित की जाती है। कई श्रमिकों को इन सरकारी योजनाओं के बारे में पता न होने के कारण वह इन योजनाओं का लाभ पाने से वंचित रह जाते हैं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए दिल्ली सरकार (Government Of Delhi) द्वारा “श्रमिक मित्र योजना” की शुरुआत की गयी है। इसके अलावा दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने अकुशल, अर्द्धकुशल और अन्य श्रमिकों का महंगाई भत्ता बढ़ाने का आदेश जारी किया है, इसकी नई दरें 1 अक्‍टूबर से लागू होंगी।

Shramik Mitra Yojana

श्रमिक मित्र योजना के अंतर्गत दिल्ली सरकार 800 श्रमिक मित्रों की नियुक्ति करेगी। यह श्रमिक मित्र दिल्ली सरकार द्वारा श्रमिकों के हित के लिए संचालित लाभार्थीपरक योजनाओं की जानकारी श्रमिकों को देंगे। इससे श्रमिकों को सरकारी योजनाओं का बेहतर लाभ मिल सकेगा एवं कोई भी श्रमिक योजनाओं का लाभ पाने से वंचित नहीं रहेगा। इस योजना के बाद ज्यादा से ज्यादा श्रमिक सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकेंगे। वर्तमान में दिल्ली सरकार श्रम मंत्रालय में लगभग 6 लाख श्रमिक पंजीकृत है।

shramik mitra yojana

Key Highlights Of Delhi Shramik Mitra Yojana

योजना का नाम श्रमिक मित्र योजना
राज्य दिल्ली
सम्बंधित विभाग श्रम मंत्रालय
उद्देश्य श्रमिकों को सरकारी योजनाओं की जानकारी प्रदान करना
लाभार्थीश्रमिक वर्ग
साल 2021

दिल्ली श्रमिक मित्र योजना का उद्देश्य

दिल्ली सरकार द्वारा श्रमिक मित्र योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य श्रमिकों को उनके लिए संचालित सरकारी योजनाओं का लाभ प्रदान करना है, ताकि कोई भी श्रमिक सरकारी योजनाओं का लाभ पाने से वंचित न रहें। इस हेतु दिल्ली सरकार 800 श्रमिक मित्रों की नियुक्ति करेगी जो श्रमिकों को दिल्ली सरकार द्वारा संचालित योजनाओं की बारे में श्रमिकों को जानकारी प्रदान करेंगे।

कंस्ट्रक्शन बोर्ड से रजिस्टर्ड निर्माण श्रमिकों को दिल्ली सरकार द्वारा दी जाने वाली सुविधाएँ

दोस्तों, ऐसे निर्माण श्रमिक जो कंस्ट्रक्शन बोर्ड के तहत पंजीकृत हैं, उन्हें दिल्ली सरकार की और से निम्नलिखित सुविधाएं प्रदान की जाती है:-

  • घर निर्माण के लिए 3 लाख से 5 लाख रूपए।
  • मातृत्व लाभ में 30000 रूपए।
  • टूल खरीदने के लिए 20000 रूपए का लोन व 5000 रूपए की सहायता राशि
  • श्रमिकों के प्राकृतिक मृत्यु पर 1 लाख रूपए एवं दुर्घटना में मृत्यु पर 02 लाख रूपए की सहायता राशि।
  • अपंग हो जाने पर 1 लाख रूपए की सहायता राशि व 3000/- रूपए मासिक पेंशन।
  • बच्चों की स्कूली व उच्च शिक्षा के लिए 500 रूपए से लेकर 10000 रूपए प्रतिमाह आर्थिक सहायता।
  • श्रमिकों व उनके बच्चों के विवाह के लिए 35000 रूपए से लेकर 51000 रूपए की सहायता राशि।
  • चिकित्सा सहायता के लिए 2000 रूपए।
  • वृद्धावस्था पेंशन के लिए 3000 रूपए (हर साल 300 रूपये की वृद्धि) की सहायता राशि दी जाती है।

श्रमिक मित्र योजना के लाभ एवं विशेषताएं

  • Delhi Shramik Mitra Yojana की शुरुआत दिल्ली सरकार द्वारा 8 नवम्बर 2021 को की गयी।
  • इस स्कीम के तहत सरकार श्रमिकों को सरकारी योजनाओं के बारे में जानकारी प्रदान की जायेगी एवं दिल्ली निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड द्वारा शुरू की गयी सरकारी योजनाओं का लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत सरकार 800 श्रमिक मित्रों की नियुक्ति की जायेगी।
  • श्रमिक मित्र दिल्ली सरकार एवं निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड की योजनाओं के बारे में श्रमिकों को जानकारी प्रदान करेंगे।
  • यह श्रमिक मित्र जिला, विधानसभा और वार्ड कोऑर्डिनेटर के रूप में काम करेंगे।
  • इस योजना के माध्यम से श्रमिकों का विकास होगा एवं ज्यादा से ज्यादा श्रमिक सरकारी योजनाओं का लाभ प्राप्त कर सकेंगे।

मजदूरों का न्यूनतम वेतन बढ़ा, 01 अक्टूबर से लागू होंगी नयी दरें

सरकार सरकार द्वारा कुशल, अर्द्धकुशल एवं अन्य श्रमिकों का महंगाई भत्ता बढ़ाने के आदेश जारी कर दिए गए है, जिसकी नयी दरें 01 अक्टूबर से लागू होंगी। इस बढ़ी हुई दरों में पहले जहाँ अकुशल श्रमिकों मासिक वेतन ₹15,908 था वह अब बढ़कर ₹16,064 रूपए किया गया है। इसके अलावा अर्द्धकुशल श्रमिकों का मासिक वेता भी 17,537 रूपए से बढ़कर 17,693 रूपए हो गया है। वहीँ कुशल श्रमिकों का मासिक वेतन 19,291 रूपए से बढ़कर 19,473 रूपए किया गया है।

इसके अलावा सुपरवाइजर और लिपिक वर्ग के कर्मचारियों के न्यूनतम वेतन में भी बढ़ोत्तरी की गयी है। इस बढ़ोत्तर में गैर मेट्रिक कर्मचारियों का मासिक वेतन 17,537 रूपए से बढ़कर 17,693 रूपए एवं मेट्रिक लेकिन गैर स्नातक कर्मचारियों का मासिक वेतन 9,291 से बढ़ाकर 19,473 रुपए हो गया है। स्नातक एवं इससे अधिक शेक्षणिक योग्यता वाले मजदूरों का मासिक वेतन 20,976 से बढ़ाकर 21,184 रुपये कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *