सॉइल हेल्थ कार्ड स्कीम 2020: मृदा स्‍वास्‍थ्‍य कार्ड योजना क्या है, Soil Health Card

By | October 2, 2020

Soil Health Card Scheme (मृदा स्वास्थय कार्ड योजना) प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा 19 फरवरी 2015 को राजस्थान के सूरतगढ़ जिले से शुरू की थी. इस योजना के अंतर्गत किसानों को उनकी फसल के मुताबिक़ आवश्यक पोषक तत्वों एवं उर्वरकों की सलाह दी जाती है, ताकि फसल की पैदावार अच्छी हो. इस योजना के अंतर्गत देश के किसानों को मृदा स्वास्थय कार्ड प्रदान किये जाएंगे. इस कार्ड में मिट्टी की पोषण स्थिति और उपजाऊपन की जानकारी सहित उर्वरक तथा अन्य पोषक तत्वों के बारे में जानकारी मौजूद होगी।

मृदा स्‍वास्‍थ्‍य कार्ड योजना 2020

मृदा स्वास्थय कार्ड योजना के अंतर्गत 429 स्थाई मृदा जांच प्रयोगशालाएं, 102 नई चलती मृदा जांच प्रयोगशालाएं, और 8752 लघु मृदा जांच प्रयोगशालाएं उपलब्ध कराई गयी है. गाँव में भी मिट्टी की जांच करने के लिए कृषि उद्यमियों को प्रोत्साहित किया जा रहा है. इस योजना के उचित क्रियान्वयन के लिए गाँव में 1562 मृदा जांच प्रयोगशालाओं को मंजूरी दी गयी और 800 प्रयोगशालाओं को उन्नत किया गया है. मृदा हेल्थ कार्ड स्कीम के तहत सरकार द्वारा 3 साल के भीतर ही लगभग 14 करोड़ किसानों को सॉइल हेल्थ कार्ड देने का लक्ष्य है.

Soil Health Card Scheme 2020 Overview

योजना का नाम मृदा स्‍वास्‍थ्‍य कार्ड योजना
किसके द्वारा शुरू की गयी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा
कब शुरू की गयी वर्ष 2015
उद्देश्य देश के किसानो को लाभ पहुँचाना
विभाग कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय भारत सरकार
ऑफिसियल वेबसाइट https://soilhealth.dac.gov.in/
बजट 568 करोड़

मृदा स्वास्थय कार्ड योजना का उद्देश्य

दोस्तों जैसा की आप सभी जानते है की, फसल की अच्छी पैदावार के लिए मिट्टी की गुणवत्ता अच्छी होनी चाहिए। देश में ऐसे बहुत से अशिक्षित किसान है, जो मिट्टी के गुण और उसके प्रकार को नहीं जानते वह सिर्फ अपने अनुभव से फसलों का बढ़ना और फसलों का असफल होना जान सकते हैं, किन्तु वे यह नहीं जानते की मिट्टी की हालत को कैसे सुधारा जा सकता है. इन्ही सभी बातो को ध्यान में रखकर भारत सरकार ने सॉइल हेल्थ कार्ड स्कीम शुरू की है.

प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति योजनाप्रधानमंत्री किसान ट्रेक्टर योजना
पारदर्शी किसान सेवा योजनाप्रधानमंत्री किसान मानधन योजना

इस स्कीम के तहत किसानों को एक कार्ड प्रदान किया जाएगा, जिसमे मिट्टी की उर्वरकता, पोषक तत्वों, मिट्टी के प्रकार आदि की जानकारी होगी, जिससे किसान उनके खेतों की मिट्टी की गुणवत्ता के अनुसार फसल लगा सकते हैं, मिट्टी की गुणवत्ता के अनुसार फसल लगाने से फसल की पैदावार अच्छी होती जिससे किसानों की आय बढ़ेगी।

सोइल हेल्थ कार्ड स्कीम की लाभ एवं विशेषताएं

  • इस स्कीम के तहत भारत के तक़रीबन 14 करोड़ किसानों को शामिल किया जाएगा.
  • मृदा स्वास्थ्य कार्ड के रूप में किसानों को एक रिपोर्ट दी जायेगी, जिसमे उनके खेतों की मिट्टी की पूरी जानकारी दर्ज होगी.
  • यह स्कीम देश के प्रत्येक जिले में लागू है.
  • एक खेत के लिए प्रत्येक 3 साल में एक सॉइल कार्ड दिया जाएगा.
  • भारत सरकार ने सॉइल हेल्थ कार्ड स्कीम के तहत 568 करोड़ रूपये का बजट निर्धारित किया है.
  • केंद्र सरकार द्वारा मृदा स्वास्थ्य कार्ड वितरण के पहले चरण (वर्ष 2015 से 2017) में 10.74 करोड़ कार्ड और दुसरे चरण (वर्ष 2017-2019) में 11.69 करोड़ कार्ड वितरित किये गए हैं।
  • इस कार्ड की सहायता से किसान खेतों की मिट्टी की उर्वरकता के अनुरूप फसल लगाकर अपनी आय में बृद्धि कर सकते है.

मृदा स्‍वास्‍थ्‍य कार्ड स्कीम कार्य कैसे करती है? (Soil health card scheme) –

  • सबसे पहले अथॉरिटी द्वारा खेत की मिट्टी के सैंपल को इकठ्ठा किया जाएगा.
  • उसके बाद मिट्टी को परिक्षण के लिए प्रयोगशालाओं में भेजा जाएगा.
  • प्रयोगशाला में विशेषज्ञों द्वारा मिट्टी की जांच की जायेगी.
  • इसके बाद विशेषज्ञों द्वारा मिट्टी की उर्वरता, स्वास्थय, अदि की रिपोर्ट तैयार की जायेगी.
  • यदि मिट्टी में कुछ कमी है तो उसके सुधार के लिए सुझाव देंगे, और उसकी एक सूची बनाएंगे.
  • इसके बाद किसान के नाम के साथ रिपोर्ट को ऑनलाइन अपलोड किया जाएगा.
  • जिससे की किसान अपने मिट्टी की जानकारी को ऑनलाइन चेक कर सकता है.
PM Kisan FPO Yojana – किसानों को सरकार देगी 15-15 लाख रुपये, ऐसे उठा सकते हैं फायदाPM Shram Yogi Mandhan Yojana | मिलेंगे रू 3000 प्रतिमाह | कैसे होता है स्कीम का रजिस्‍ट्रेशन
PM Jeevan Jyoti Bima Yojana – जीवन ज्योति बीमा योजना 330 रू में पाये 2 लाख का बीमा ।किसानों को मिलेंगे 2 लाख रुपये, नहीं पता तो जाने कैसे? – Rajiv Gandhi Krishak Sathi Sahayata Yojana

मृदा हेल्थ कार्ड पर उपस्थित जानकारी

  • मिट्टी की सेहत
  • खेत की उत्पादक क्षमता
  • पोषक तत्व की मौजूदगी एवं पोषक तत्व की कमी
  • पानी की मात्रा यानी नमी
  • अन्य उपस्थित पोषक तत्व
  • खेतों की गुणवत्ता सुधारने हेतु उचित दिशनिर्देश।

Soil Health Card Scheme में आवेदन कैसे करे

देश के इच्छुक किसान भाई जो अपने खेतों की मिट्टी की जाँच करवाने के लिए मृदा स्वास्थय कार्ड योजना में आवेदन करना चाहते हैं, वह निचे दिए गए तरीके को फॉलो करें:-

  • ऑफिसियल वेबसाइट खुलने के बाद आपको होम पेज पर “login” का ऑप्शन दिखाई देगा. इस पर क्लिक करें.
  • ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद एक नया पेज खुल जाएगा.
  • इस पेज में आपको अपने राज्य का चुनाव करकेContinue” के बटन पर करना है.
  • अब आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर “login form” खुल जाएगा.
  • इस लॉगिन फॉर्म के निचे आपको “Register New User” का ऑप्शन दिखाई देगा. इस पर क्लिक करें.
  • ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा.
  • अब रजिस्ट्रेशन फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी जैसे: User Organisation Details, Language, User Details, User Login Account Details आदि सही-सही भरें.
  • सारी जानकारी भरने के बाद सबमिट बटन पर क्लिक करें.
  • अब आपका इस योजना में सफलतापूर्वक रजिस्ट्रेशन हो जाएगा.
  • रजिस्ट्रेशन होने के बाद आपको लॉगिन करना है.
  • इसके लिए आपको होम पेज पर जाकर लॉगिन के ऑप्शन पर क्लिक करना है.
  • लॉगिन फॉर्म में आपको अपना username और Password डालना होगा | इस तरह आप मृदा स्वास्थय कार्ड के लिए आवेदन कर सकते है |

यह भी देखें: PM Kisan Yojana की सातवीं क़िस्त कब भेजेगी मोदी सरकार? यहाँ जाने
यह भी देखें: PM Kisan Yojana : योजना के लाभार्थियों की नई सूची जारी, ऐसे करा सकते हैं, नाम दर्ज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *