Join Our Telegram Group Join Now
Join Our WhatsApp Group Join Now

Mukhymantri Bal Gopal Yojana 2022-23 | मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना कार्यान्वयन प्रक्रिया, लाभ व पात्रता

Mukhymantri Bal Gopal Yojana 2022-23: राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी द्वारा वित्त बजट 2022-23 पेश करते समय मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना को शुरू करने की घोषणा की गयी थी. इस स्कीम के अंतर्गत राजकीय विद्यालयों में अध्ययनरत कक्षा 1 से 8 तक के विद्यार्थियों को सप्ताह में दो बार दूध उपलब्ध कराया जाएगा. मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना के अंतर्गत कक्षा 1 से 5 तक के विद्यार्थियों को 15 ग्राम मिल्क पाउडर के साथ प्रत्येक बच्चे को 150 मिली लीटर दूध पीने को मिलेगा वहीँ कक्षा 6 से 8 तक के विद्यार्थियों को 20 ग्राम मिल्क पाउडर से दूध तैयार कर 200 मिली लीटर दूध पीने को दिया जाएगा. इस लेख के माध्यम से हम CM Bal Gopal Yojana Rajasthan की कार्यान्वयन प्रक्रिया, लाभ, उद्देश्य, एवं अन्य आवश्यक विवरण साझा कर रहे हैं, इसलिए आप लेख पर अंत तक बने रहें.

mukhymantri baal gopal yojana

Mukhymantri Bal Gopal Yojana 2022-23

राजकीय विद्यालयों में ज्यादातर कमजोर आर्थिक वर्ग से संबंद्ध रखने वाले परिवारों के बच्चे पढ़ते हैं. ये परिवार अपने बच्चों के पालन पोषण के लिए उचित आहार की व्यवस्था नहीं कर पाते जिससे बच्चों के स्वास्थय पर प्रभाव पड़ता है. उचित आहार न मिलने के कारण ज्यादातर बच्चे कुपोषण का शिकार हो जाते हैं एवं राजस्थान प्रदेश में ये आंकड़े दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहें हैं. इसी समस्या से निपटने के लिए राजस्थान सरकार द्वारा मिड डे मील योजना के अंतर्गत मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना की शुरुआत की गयी है. इस स्कीम के तहत कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को सप्ताह में दो दिन मिल पाउडर से बना दूध उपलब्ध कराया जाएगा. यह मिल्क पाउडर राजस्थान को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन के जरिये विद्यालयों तक वितरित किये जायेंगे. राजस्थान सरकार ने इस योजना के संचालन के लिए 476.44 करोड़ रूपए का बजट पारित किया है.

राजस्थान सरकार की अन्य लाभकारी योजनायें

CM Bal Gopal Yojana 2023 – Overview

योजना का नामMukhymantri Bal Gopal Yojana
सम्बंधित विभागशिक्षा विभाग, राजस्थान सरकार
किसके द्वारा शुरू की गयीराजस्थान सरकार द्वारा
उद्देश्यविद्यार्थियों के पोषण स्तर में सुधार करना ड्रापडाउन को रोकना
लाभार्थीकक्षा 1 से 8 तक के बच्चे
राज्यराजस्थान
वर्ष2023
ऑफिसियल वेबसाइटजल्द लांच की जायेगी

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना के अंतर्गत दिए जाने वाले दूध की मात्रा

क्र. सं.कक्षा स्तरपाउडर मिल्क की मात्रा (प्रति छात्र )तैयार दूध की मात्रा ( प्रति छात्र )चीनी की मात्रा  
1प्राथमिक (कक्षा से 5)15 ग्राम150ml8.4 ग्राम
2उच्च प्राथमिक (कक्षा 6 से 8)20 ग्राम200 ml10.2 ग्राम

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना का उद्देश्य

राजस्थान सरकार द्वारा मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य राजकीय विद्यालयों में पढने वाले बच्चों को पोषण युक्त आहार उपलब्ध कराना है. इस स्कीम के अंतर्गत मिड डे मील योजना से जुड़े राजकीय विद्यालयों, मदरसों एवं विशेष प्रशिक्षण केन्द्रों में बच्चों को दूध उपलब्ध कराया जाएगा. Bal Gopal Yojana के अंतर्गत कक्षा एक से आठ तक के बच्चों को सप्ताह में दो दिन दूध उपलब्ध कराया जाएगा. इस योजना के माध्यम से कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों के पोषण स्तर में सुधार होने के साथ राजकीय विद्यालयों में नामांकन एवं विद्यार्थियों की उपस्थिति में वृद्धि होगी एवं विद्यार्थियों का ड्रापआउट भी रुकेगा.

Bal Gopal Yojana Rajasthan के लाभ एवं विशेषताएं

  • Bal Gopal Yojana की शुरुआत की घोषणा राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी द्वारा वित्तीय बजट 2022-23 के दौरान की गयी थी.
  • इस स्कीम के तहत मिड-डे-मील योजना से जुड़े राजकीय विद्यालयों, मदरसों एवं विशेष प्रशिक्षण केन्द्रों के कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को सप्ताह में दो दिन दूध उपलब्ध कराया जाएगा.
  • मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना के माध्यम कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों के पोषण स्तर में वृद्धि होगी.
  • इसके साथ ही नामांकन एवं विद्यार्थियों के उपस्थिति संख्या में वृद्धि होगी एवं ड्रॉपडाउन में कमी आएगी.
  • इस योजना के अंतर्गत पाउडर मिल्क की खरीद राजस्थान को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन से की जायेगी एवं मिड डे मील आयुक्तालय के माध्यम पाउडर मिल्क का वितरण जिलेवार किया जाएगा.
  • आरसीडीएफ द्वारा विद्यालयों तक पाउडर मिल्क की डिलिवरी की जाएगी।
  • Rajasthan CM Bal Gopal Yojana के लांच होने से राजस्थान में साक्षरता दर में वृद्धि होगी एवं प्रदेश का विकास होगा.

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना हेतु पात्रता एवं दस्तावेज

  • इस स्कीम का लाभ राजस्थान राज्य के कक्षा 1 से 8 तक के विद्यार्थी उठा सकते हैं.
  • छात्र राजस्थान राज्य के मिड डे मील योजना से जुड़े राजकीय विद्यालयों, मदरसों एवं विशेष प्रशिक्षण केन्द्रों में पढने वाले बच्चों को ही दूध उपलब्ध कराया जाएगा.
  • छात्र की स्कूल में नियमित हाजिरी होना जरुरी है.
  • स्कूल द्वारा आईडी प्रूफ कार्ड विद्यार्थी के पास होना आवश्यक है.

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना कार्यान्वयन प्रक्रिया

राजस्थान शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पवन कुमार गोयल ने बताया की Mukhymantri Bal Gopal Yojana के तहत सरकारी स्कूलों में पढने वाले कक्षा 1 से 8 तक के विद्यार्थियों को मंगलवार एवं शुक्रवार को मिल्क पाउडर से तैयार दूध उपलब्ध कराया जाएगा. यदि इन दिनों में अवकाश है तो अगले शेक्षणिक दिवस पर दूध उपलब्ध कराया जाएगा. इस योजना के कार्यान्वयन हेतु पाउडर मिल्क की खरीद राजस्थान को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन से की जायेगी एवं मिड-डे मील आयुक्तालय द्वारा पाउडर मिल्क का वितरण जिलेवार किया जाएगा. इसी प्रकार जिला स्तर पर जिला शिक्षा अधिकारी एवं ब्लॉक स्तर पर ब्लॉक शिक्षा अधिकारी पाउडर मिल्क के वितरण को सुनिश्चित करेंगे. आरसीडीएफ द्वारा विद्यालयों तक पाउडर मिल्क की डिलिवरी की जाएगी. बच्चो को दूध वितरण की जिम्मेदारी विद्यालय प्रबंधन होगी.

Mukhymantri Bal Gopal Yojana: FAQs

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना क्या है?

इस स्कीम के अंतर्गत राजस्थान सरकार द्वारा कक्षा 1 से 8 तक बच्चों को सप्ताह में दो बार दूध उपलब्ध कराया जाएगा.

Mukhymantri Bal Gopal Yojana की शुरुआत कब हुई?

इस स्कीम की शुरुआत मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत द्वारा वित्तीय बजट 2022-23 प्रस्तुत करते समय की गयी.

CM Bal Gopal Yojana Rajasthan के माध्यम से बच्चों को कितना मिली लीटर दूध दिया जाएगा?

इस स्कीम के तहत कक्षा 1 से 5 तक विद्यार्थियों को 150 मिली लीटर एवं कक्षा 6 से 8 तक के विद्यार्थियों को 200 मिली लीटर दूध उपलब्ध कराया जाएगा.

🔥🔥 Join Our Groups For Latest Information🔥🔥

🔥 Follow US On Google NewsClick Here
🔥 Join Our Whatsapp GroupClick Here
🔥 Facebook PageClick Here
🔥 Telegram Channel Online Gyan PointClick Here
🔥 TwitterClick Here
🔥 Website Click Here

Leave a Comment

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: